मिलिए 3 idiot के असली रैंचों से

एक मामला ऐसा सामने आया है जिसमें एक MBBS स्टूडेंट फिल्म 3 इडियट्स के रैंचो से भी आगे निकल गया है. जी हां, इस स्टूडेंट ने ट्रेन में महिला की डिलीवरी की.

Saturday 22 July 2017, 12:25 am
0 233 0
मिलिए 3 idiot के असली रैंचों से

MBBS फाइनल इयर के विपिन ने अपने पेशे का फर्ज चलती ट्रेन में भी निभाया। अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस ट्रेन में सफर कर रहे इस युवा स्टूडेंट ने अपने सीनियर्स से वॉट्सऐप ग्रुप पर मिले निर्देशों को फॉलो करते हुए रेल में ही प्रग्नेंट महिला का प्रसव कराया। महिला ने एक स्वस्थ लड़के को जन्म दिया। विपिन खडसे अभी डॉक्टर की पढाई कर रहे है, लेकिन मुसीबत के वक्त उन्होंने प्रसव पीड़ा से गुजर रही महिला की मदद की।

शुक्रवार को जब विपिन ट्रेन में सफर कर रहे थे तो उन्होंने एक महिला को प्रसव पीड़ा में छटपटाते हुए देखा. महिला की ऐसी हालत देखकर उसके परिजनों नें चेन खींचकर ट्रेन रोकने की कोशिश की, ताकि महिला को अस्पताल में भर्ती कराया जा सके, लेकिन कोशिश नाकाम रही. बाद में इसकी जानकारी ट्रेन के गार्ड और टिकट कलेक्‍टर को भी दी गई. उन्‍होंने फौरन ही ट्रेन में डॉक्‍टर को तलाशने की पूरी कोशिश भी की.

विपिन ने बताया कि उन्होंने गार्ड और टिकट कलेक्टर को एक राउंड ट्रेन में घूमते देखा कि किसी डॉक्टर की मदद ली जा सके। विपिन बताते हैं, 'मैं चुप रहा क्योंकि मुझे लगा कि कोई न कोई डॉक्टर जरूर मदद करेगा, लेकिन जब गार्ड और टीसी दूसरी बार भी घूमते दिखे तो मैंने उन्हें मदद का ऑफर दिया।' चित्रलेखा और उनके पति ट्रेन में अहमदाबाद में चढ़े थे, जहां दोनों मजदूरी का काम करते हैं।

हालांकि वह अभी छात्र ही थे, लिहाजा इस तरह की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से फिट नहीं थे। लेकिन इस काम में उन्‍होंने अपने कॉलेज की सीनियर लेडी डॉक्‍टर की फोन पर मदद ली। विपिन ने बताया कि जब‍ वह महिला के पास पहुंचे तो वहां चारों और खून फैला था और महिला दर्द से तड़प रही थी।

लिहाजा सबसे पहले उन्‍होंने दो महिलाओं की मदद से वहां मौजूद लोगों को हटाकर कंपार्टमेंट को एक डिलीवरी रूम में तब्‍दील किया। उन्‍होंने महिला की हालत के बाबत अपने कॉलेज की डॉक्‍टर से तुरंत कंसल्‍ट किया और उसकी मौजूदा स्थिति का एक फोटो भी भेजा, जिसके बाद अस्‍पताल से लगातार महिला डॉक्‍टर उन्‍हें दिशा निर्देश देती रही। विपिन ने बताया उसकी मदद करने वाली महिलाओं में एक दाई भी थी जिसने उनकी काफी मदद की।

सफल डिलिवरी के बाद यात्रियों ने उनकी खूब सराहना की और नागपुर पर महिला को रेलवे अस्‍पताल के डॉक्‍टरों के हवाले कर दिया गया, जिसके बाद डाक्‍टरों ने महिला को कुछ दवाई देने के बाद उसे यात्रा करने की इजाजत भी दे दी. एमबीबीएस स्टूडेंट ने जो कारनामा किया वो सच में मिसाल से कम नहीं है.

You may be interested

0 shares 24 views 0

इस बार कर्नाटक विधानसभा में बोखला गई है भाजपा, निजी हमलो पर उतारू

Thursday 10 May 2018, 5:46 pm

एक के बाद एक निजी हमलो से परेशान सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह पर 100 करोड़ का मानहानि का केस कर दिया है।

0 shares 114 views 0

चिकन, मटन, मछली खाने वालों में डिप्रेशन कम

Thursday 30 November 2017, 6:39 am

मेडिकल रिसर्च में दावा, शाकाहारी लोगो को डिप्रेशन का खतरा ज्यादा.

0 shares 505 views 0

गुजरात में किसी भी विपक्षी पार्टी को वोट दें, लेकिन बीजेपी को हराएं

Monday 27 November 2017, 9:53 am

देश बेहद नाजुक दौर से गुजर रहा है, जबकि हिंदू मुसलमान को आपस में लड़ाकर देश को बांटने की कोशिश की जा रही है. हिंदू मुसलमान के नाम पर भारत को बांटना ही पाकिस्तान का सबसे बड़ा मकसद और सपना है.

0 Responses

Most from this category